पीरियड्स के दौरान अत्यधिक ब्लीडिंग होने के पीछे होती हैं ये वजह #loveromance
September 29th, 2020 | Post by :- | 285 Views

पीरियड्स के दौरान ब्लीडिंग होना सामान्य बात है लेकिन अगर अधिक ब्लीडिंग होने लग जाए तो यह एक गंभीर समस्या बन जाती है। अनियमित पीरियड्स किसी शारीरिक समस्या की वजह से भी हो सकता है। ऐसे में डॉक्टर से संपर्क करने की आवश्यकता होती है। अमेरिकन स्टडी के अनुसार 10 में से एक महिला को अत्यधिक ब्लीडिंग होने की समस्या होती है। आइए आपको अत्यधिक ब्लीडिंग होने के पीछे क्या वजह होती हैं बताते हैं।

गर्भ निरोधक गोलियां बदलने से: बार-बार गर्भ निरोधक गोलियों को बदलने से आपके शरीर में हार्मोंस भी अलग तरह से रिलीज होते हैं। क्योंकि दवाईयों के अलग-अलग बर्थ कंट्रोल मेथड शरीर को प्रभावित करते हैं। जिस वजह से पीरियड्स के दौरान अत्यधिक ब्लीडिंग होने लगती है।

एंटी-कॉग्युलेंट्स की वजह से: अगर आप एंटी-कॉग्युलेंट्स मेडिकेशन पर हैं और उस दौरान आप पीरियड्स
से हों तो अत्यधिक ब्लीडिंग होना सामान्य बात होती है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि एंटी-कॉग्युलेंट्स ब्लड क्लॉट के बनने को रोकता है जिस वजह से ब्लड फ्लो तेज हो जाता है। जब तक आप इस बात के लिए निश्चित ना हो जाए तब तक उन दवाइयों का सेवन ना करें जिनमें एंटी-कॉग्युलेंट्स ना हो।

किसी रक्त विकार की वजह से: असामान्य रूप से अत्यधिक ब्लीडिंग होना खून में किसी समस्या का संकेत हो सकता है। सेंटर फॉर डीजिज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के अनुसार जिन महिलाओं के खून में प्रोटीन की कमी होती है उन्हें अत्यधिक ब्लीडिंग की समस्या हो जाती है। यदि आपको लगता है कि आपको यह समस्या हो सकती है, तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

किसी इंफेक्शन की वजह से: यूट्रस में होने वाले इंफेक्शन जैसे- गोनोरिया, क्लैमाइडिया या कोई अन्य समस्या की वजह से भी पीरियड्स के दौरान अत्यधिक ब्लीडिंग की समस्या हो सकती है। इसलिए यदि आप असुरक्षित यौन संबंध रखते हैं और अनियमित रूप से पीरियड्स का सामना कर रहे हैं, तो अपने डॉक्टर से जरूर संपर्क कर लें। यदि आप एसटीडी के शिकार हैं, तो कई दवाएं हैं जो आपकी मदद कर सकती हैं।