शादी से पहले इन 5 टॉपिक पर अपने होने वाले लाइफ पार्टनर से जरूर कर लें बात, ताकि बाद में न हो कोई परेशानी #loveromance
October 1st, 2020 | Post by :- | 162 Views

लाइफ पार्टनर का चुनाव हमारी लाइफ के सबसे महत्वपूर्ण फैसलों में से एक होता है। लव मैरिज में तो फिर भी थोड़ी परेशानियां कम आती हैं, लेकिन अरेंज्ड मैरिज में शादी के बाद पार्टनर के साथ एडजस्ट करने की समस्याएं काफी देखने को मिलती हैं। चूंकि हमारे यहां ज्यादातर शादियां अरेंज्ड होती हैं, जिसमें शादी से पहले लड़की-लड़के को 1-2 मुलाकात का ही समय मिलता है, ऐसे में कुछ बातें ऐसी हैं जिन्हें आपको अपने होने वाले लाइफ पार्टनर के साथ शादी से पहले ही डिसकस कर लेना चाहिए। अगर आप इन मुद्दों पर अपने पार्टनर से बात नहीं करते हैं, तो संभव है कि शादी के बाद आपको इन्हीं बातों को लेकर परेशान होना पड़े। इसलिए हम आपको बता रहे हैं शादी से पहले कौन सी बातें आपसी बातचीत से क्लियर कर लेनी चाहिए।

पारिवारिक परंपराएं

हर परिवार की अपनी कुछ परंपराएं और मान्यताएं होती हैं, जो जरूरी नहीं कि आपके यहां भी हो। ऐसे में शादी से पहले लड़की हो या लड़का, उन्हें एक दूसरे के परिवार की परंपराएं, पूजा-पाठ संबंधी मान्यताएं और संस्कार आदि के बारे में बातें कर लेनी चाहिए। खासकर ऐसी लड़कियां जो वर्किंग हैं, उन्हें इस बारे में अपने पार्टनर से बात कर लेनी चाहिए कि वो परिवार की मान्यताओं और परंपराओं को कितना समय और कितना डेडिकेशन दे पाएंगी। क्योंकि आमतौर पर लड़की पर ये दबाव ज्यादा होता है कि वो लड़के की फैमिली ट्रैडीशन्स को माने और आगे बढ़ाए।

पैसा और करियर

अरेंज्ड मैरिज से पहले फाइनेंशियल मुद्दों पर बात कर लेना भी बहुत जरूरी होता है। आप करियर और फाइनेंस से जुड़ी अपनी ताजा स्थिति और भविष्य के सपनों के बारे में अपने होने वाले पार्टनर से बात कर सकते हैं। खासकर लड़कियों के लिए इस बारे में बात करना बेहद जरूरी है कि वो करियर में ग्रोथ के लिए आगे क्या करना चाहती हैं और पार्टनर उन्हें इस काम में कैसे सपोर्ट करेंगे। इसके अलावा घर के खर्चे और बाकी लाइफस्टाइल मेनटेन करने में खर्चों को कैसे मैनेज किया जाएगा, इस बारे में भी बात कर लेना जरूरी है।

फैमिली प्लानिंग

आपको सुनकर जरूर अजीब लग रहा होगा कि शादी से पहले फैमिली प्लानिंग की बात करना सही है या नहीं। लेकिन आपको बता दें कि ये एक बेहद जरूरी चीज है, जिसके बारे में आपको जरूर बात करना चाहिए। आप कितने बच्चे चाहते हैं, उनकी परवरिश के लिए प्लानिंग और बच्चों के बीच गैप आदि की बातें कर लेना ठीक है। इसका कारण यह है कि कई बार लड़कियों पर ज्यादा बच्चे करने, लड़की-लकड़ा को लेकर या जल्दी प्रेग्नेंसी प्लानिंग का दबाव फैमिली की तरफ से डाला जाता है, जो कि उनके करियर ग्रोथ में रुकावट बन सकता है।

स्वभाव के बारे में

वैसे तो एक-दूसरे का स्वभाव कोई ऐसी बड़ी चीज नहीं है, जिसके कारण आप शादी तोड़ें या अपना फैसला बदलें। लेकिन एक-दूसरे के स्वभाव और टेम्पर के बारे में बात करना इसलिए जरूरी है क्योंकि कई बार शादी के बाद इसके कारण भी बहुत बड़ी समस्याएं आती हैं। इसलिए अपने पार्टनर से अपनी आदतों, स्वभाव, जरूरतों आदि को जरूर बता दें और उनसे उनके स्वभाव और आदतों के बारे में पूछ लें। ये छोटी सी बात आपके लिए आगे बहुत काम आ सकती है।

जॉब और टाइमिंग्स के बारे में

कई बार इन बातों को लेकर भी हसबैंड वाइफ के बीच तनाव रहता है कि जॉब या टाइमिंग की समस्या सामने आती है। कुछ जॉब सेक्टर ऐसे हैं, जहां डे-शिफ्ट और नाइट शिफ्ट दोनों ही काम करना पड़ता है। ऐसे में संभव है कि आप अभी डे-शिफ्ट में हों, लेकिन भविष्य में आपको नाइट शिफ्ट काम करना पड़े या जॉब से जुड़े लंबे-लंबे ट्रैवेल करने पड़ें। ऐसे में आपको अपनी जॉब और करियर को लेकर भी बात कर लेनी चाहिए। खासकर लड़कियों को इस बारे में बात कर लेनी चाहिए कि कभी ऑफिस रिलेटेड ट्रैवेलिंग के लिए, नाइट शिफ्ट के लिए उन्हें परेशान तो नहीं होना पड़ेगा।