प्रेग्नेंसी हो या पीरियड्स महिलाओं के शरीर के साथ जुड़ी हुई है ये खास चीज, जानें क्या है ये और क्यों है जरूरी #loveromance
October 10th, 2020 | Post by :- | 231 Views

हर किसी को पता होगा कि जब एक लड़की पैदा होती है तो उसके जन्म के साथ ही सारे रिश्ते भी जूड जाते हैं, उन रिश्तों में से सबसे खास रिश्ता होता है जब वह मां बनती है। लेकिन एक लड़की अपने जन्म के समय ही कुछ सीमित मात्रा में एग लेकर पैदा होती हैं और इसके बाद जीवनभर कोई नए एग की कोशिका नहीं बनती है। ये वो एग्‍स होते है जो कंसीव करने और प्रेगनेंट होने में काम आते हैं। इनके बिना मां बनना संभव नहीं है और हर महीने की माहवारी भी इन्‍हीं अंडों (eggs) से होती है। आइए जानते हैं कि एक लड़की जन्म के समय कितने एग के साथ पैदा होती है?

जन्‍म के समय कितनी होती है एग की संख्‍या

लड़कियां के अंदर पैदा होने से पहले लगभग 66 लाख एग होते हैं, लेकिन जब वह जन्म लेती है तो यह संख्‍या तेजी से घट जाती है  जिसकी वजह से जन्‍म के समय सिर्फ 10 से 20 लाख एग ही शरीर में होते हैं। इस संख्‍या में थोड़ा-बहुत अंतर हो सकता है।

बचपन में ही क्‍यों नहीं होते पीरियड्स

  • जब लड़कियों के शरीर में जन्‍म से ही एग होते हैं तो फिर पीरियड्स कई सालों बाद क्‍यों शुरू होते हैं?
  • बता दें कि प्‍यूबटी तक पीरियड्स यानि मासिक चक्र शुरू नहीं होता है। जब मस्तिष्क में स्थित हाइपोथैलेमस गोनाडोट्रोपिन हार्मोन रिलीज करना शुरू करता है, तब प्‍यूबर्टी शुरू होती है।
  • ये हार्मोन एफएसएच यानी फॉलिकल स्टिमुलेटिंग हार्मोन बनाने के लिए पिट्यूटरी ग्‍लैंड को उत्‍तेजित करता है। एफएसएच एग के विकास को शुरू करता है और एस्‍ट्रोजन के लेवल को बढ़ाता है।
  • इसकी वजह से कुछ लड़कियों को मूड स्विंग्‍स होते हैं। ब्रेस्‍ट के बढ़ने के शुरू होने के दो साल बाद पीरियड शुरू होते हैं। इस समय लड़कियों की औसत उम्र 12 या 13 साल की होती है जबकि कुछ लड़कियों को जल्‍दी 8 साल की उम्र में, तो वहीं कुछ को देरी से 15 साल की उम्र में पीरियड्स शुरू होते हैं।

प्‍यूबर्टी के समय कितनी होती है एग की संख्‍या

जब एक लड़की प्‍यूबर्टी की उम्र में पहुंचती है तो उसके शरीर में 300,000 और 400,000 एग होते हैं। इसके साथ ही प्‍यूबर्टी पर पहुंचने से पहले हर महीने 10,000 एग मर जाते हैं।

30 की उम्र में एग

जब महिला की उम्र 32 तक पहुंचती है तो उसके शरीर में फर्टिलिटी की मात्रा कम होने लगती है और 37 की उम्र के बाद तो तेज से घटने लगती है। इसलिए महिलाओं को 30 की उम्र से पहले प्रेगनेंट होने की सलाह दी जाती है। वहीं अगर कोई महिला सिगरेट या शराब पीती हैं तो इसका भी असर उसकी फर्टिलिटी पर पड़ता है। एक महीला जब  37 साल की उम्र में पहुचती है तो उसके शरीर में सिर्फ 25,000 एग ही बचते हैं और मेनोपॉज में 15 साल बाकी होते हैं। कुछ महिलाएं मेनोपॉज तक पहले ही पहुंच जाती हैं तो कुछ देर से।

बढ़ती उम्र के साथ क्‍यों घटती है एग की क्‍वालिटी

महिला में ओवुलेशन से पहले ही एग अलग होने लगते हैं। जिससे धीरे-धीरे एग कम होने लगते हैं। यही वजह है कि अधिक उम्र में मां बनने और अन्‍य असामान्‍यताएं होने की संभावना रहती हैं । 35 साल की उम्र से पहले एग फ्रीजिंग से मां बनना ज्‍यादा अच्‍छा होता है। इसके अलावा आप आईवीएफ से भी मां बन सकती हैं।