ट्रस्ट इशूज की वजह से खराब न होने दें अपना रिश्ता, जानें कैसे फिक्स करें इस तरह की परेशानियां….. #loveromance
October 19th, 2020 | Post by :- | 151 Views

कहते हैं भरोसा शब्‍द छोटा होता है, लेकिन इसके मायने काफी बड़े होते हैं। अक्‍सर ज्‍यादातर रिश्ते सलाह, प्यार और भरोसे से पर टिके होते हैं। लेकिन क्या आपको लगता है कि अब आप अपने साथी पर भरोसा नहीं कर सकते? विश्वास के मुद्दे यानि ट्रस्‍ट ईश्‍यू होने से आपके रिश्ते को बर्बाद हो सकते हैं। आखिरकार, विश्वास उन स्तंभों में से एक है, जिन पर रिश्ते पनपे हैं। यदि आप उस व्यक्ति पर अपना विश्वास नहीं रख सकते, जिससे आप प्यार करते हैं, तो आपको क्या लगता है कि रिश्ते में क्या होगा? हर किसी को अनिश्चितता है कि किस पर भरोसा करें, लेकिन यह आप पर निर्भर करता है कि आप विश्‍वास बना या रख पाते हैं या नहीं।

हम जिस व्यक्ति से आप प्यार करते हैं, उस पर अपने विश्वास का पुनर्निर्माण करने के लिए पहला कदम है खुद पर विश्वास करना। यह कुछ अजीब लग सकता है लेकिन असुरक्षा की भावनाएं तभी दूर होंगी, जब आप खुद पर भरोसा करेंगे। जब आप खुद पर भरोसा करते हैं, तो आप अपने आत्मविश्वास का निर्माण करने और बेहतर निर्णय लेने में सक्षम होते हैं। अगर आप खुद पर भरोसा नहीं कर सकते, तो आप किसी और पर कैसे भरोसा करेंगे? तो आइए यहां हम आपको बताते हैं कि आप अपने रिश्‍तों या संबंधों में विश्वास के मुद्दों या ट्रस्‍ट ईश्‍यू से कैसे निपट सकते हैं।

1- आपको परेशान करने वाली चीजों के बारे में चुप रहने की बजाय आप अपने अपने पार्टनर को अपने मन में उठ रहे सवाल या बात को बताएं। उनसे पूछें कि कि ऐसा क्या है, जिससे रिश्ते में जल्दी भरोसा पैदा हो सकता है या फिर भरोसा टूट रहा है। क्‍योंकि मन में सवाल इकट्टा करने से यह केवल आपको परेशान करेंगे, इसके अलावा कुछ नहीं।

2- क्या आपको पहले धोखा मिला है या दिया गया है? इसके अलावा, आप अन्य विकल्पों के बारे में सोच रहे हैं? अगर ऐसा है, तो आप अपने आपको प्रतिबिंबित करें क्योंकि हमें परेशान करने वाली चीजें हमारे सोचने के तरीके को प्रभावित करती हैं और वास्तविक जीवन में भी दखल देती हैं। जिससे कि विश्‍वास या भरोसा कर पाना मुश्किल होता है और इससे रिश्‍ते प्रभावित होते हैं।

3- अपने रिश्ते में खुले रहें, जो है सामने रखें और खुलकर बोलें। क्योंकि आपका अपने पार्टनर के साथ पारदर्शी और ईमानदार होने से आपका बंधन को मजबूत होता है और रिश्‍ते में भरोसे जैसे मुद्दे नहीं सामने आते। एक कमजोर या भरोसा न कर पाने वाले रिश्‍ते से बेहतर होता है कि रिश्‍ता खत्‍म ही हो जाए।

4- एक दूसरे को दोष न दें, क्योंकि यह केवल आपके और आपके पार्टनर के बीच चीजों को खराब करेगा। आपको इतना समझदार बनने की कोशिश करनी होगी कि आप अपनी गलती को मानें और गलती के लिए माफी मांगें। आरोप लगाने से बेहतर है कि आरोप लगाकर दो बातें बुरा-भली कह दी जाएं और शांत हो जाएं।

5- जीवन में एक बात जिस पर आपको बेहद ध्‍यान देने की जरूरत है, वह है कि आपको भरोसा पाने के लिए भरोसा देना होगा। यह बोलने या सुनने में आसान लग सकता है, लेकिन स्वतंत्र रूप से विश्वास देना मुश्किल है। जब मोहब्बत करने वाला प्यार से दूर हो जाता है, तो वह रिश्‍ते को बनाए रखने के लिए दृढ़ता, विश्वास और कम्‍युनिकेशन बनाए रखता है। जिससे कि रिश्‍ते की बागडोर मजबूत बनी रहे।