5 संकेत, जो आपके अच्छे बॉयफ्रेंड का बुरा चेहरा दिखा देंगे
August 19th, 2020 | Post by :- | 176 Views

हम सभी की ज़िंदगी में ऐसे लोग होते हैं, जो पहली नज़र में पूरी दुनिया के लिए अच्छे होते हैं, पर उनके अच्छे चेहरे के पीछे कई बुरे चेहरे छुपे होते हैं. सबसे बुरा तो यह होता है, जब वह दुनिया का प्यार व्यक्ति आपका बॉयफ्रेंड हो. आपकी सहेलियों और परिवार के लोगों के लिए आदर्श व्यक्ति आपका बॉयफ्रेंड आपको बीच-बीच में अपना असली चेहरा दिखा जाता है, जो आपको तो पता चलता है, पर दूसरे लोग जब उसकी तारीफ़ करने लगते हैं, तब आप दोबारा कन्फ़्यूज़ हो जाती हैं. इस तरह के व्यक्ति को झेलना दिमाग़ को हर
पल शॉक देने जैसा है. आपका आत्मविश्वास कम होने लगता है, जिसका फ़ायदा उठाना वह जानता है. अगर आप अपने पार्टनर के बिहेवियर के चलते उसे अच्छा या बुरा मानने को लेकर कन्फ़्यूज़ हो रही हैं तो यहां उन पांच संकेतों के बारे में पढ़ें, जो पार्टनर का असली चेहरा बेनकाब करने के लिए काफ़ी हैं.

पहला संकेत: वह अक्सर कहता है ‘तुम पागल हो क्या?’
पहली दफ़ा जब कोई आपकी किसी ग़लती पर प्यार से कहे,‘तुम पागल हो क्या?’ तब यह क्यूट लगता है. पर हर बार, हर बात पर ‘तुम पागल हो क्या?’ कहने का मतलब जानती हैं? आपका बॉयफ्रेंड आपको बेवकूफ़ साबित करने का कोई मौक़ा नहीं छोड़ना चाहता. वह हर समय आपकी समझ और बुद्धि पर सवाल उठाकर एक तरह से यह जताना चाहता है कि वह कितना होशियार है. उसने आपकी ज़िंदगी को आसान बना दिया है. अगर वह नहीं होता तो आपका क्या होता! तो ‘तुम पागल हो क्या?’ को क्यूटनेस की गोली की तरह न खाएं. यह इसे बंदूक की गोली समझें.

दूसरा संकेत: ‘पल में तोला, पल में माशा’ हो जाता है
उसका व्यवहार बेहद अनप्रेडिक्टेबल है. वह बहुत जल्दी ख़ुश हो जाता है और आपके ऊपर इतना प्यार उड़ेलता है कि आप ख़ुद को दुनिया की सबसे भाग्यशाली लड़की समझने लगती हैं. जब आप स्वप्न लोक में भ्रमण कर ही रही होती हैं कि वह अपने दूसरे रूप का दर्शन करा देता है. आपको नीचा दिखाना, आपकी खिंचाई करना, आपको झिड़कना और बेहद भद्दे शब्दों का इस्तेमाल करने लगता है. आप उसके इस नरम गरम यानी पल में तोला, पल में माशा वाले व्यवहार को समझ ही नहीं पातीं. बस आपको अपनी ग़लतियां नज़र आने लगती हैं, क्योंकि वह तो आपसे कितना प्यार करता है, आपकी कितनी देखभाल करता है. पर सावधान, यह प्यार आप पर जल्द ही भारी पड़नेवाला है.

तीसरा संकेत: खाता न बही, बॉयफ्रेंड जो कहे वही सही
खाता न बही वाली कहावत उन लोगों के लिए इस्तेमाल किया जाता है, जो लोगों से डील करने के लिए किसी फ़िक्स फ़ॉर्मूले पर अमल नहीं करते. उनकी ज़ुबान की कोई क़ीमत नहीं होती. यानी अगर आज उन्होंने कहा कि सूरज पूरब में निकलता है तो कल इस बात की हिमायत करने लगेंगे कि सूरज पश्चिम से ही निकलता आया है. अगर आपका बॉयफ्रेंड भी अपनी सुविधा के अनुसार अपनी बातें बदलता हो तो उसपर भरोसा न करें. ज़ुबान की क़ीमत होनी ही चाहिए. इस तरह का व्यवहार करके वह बता देता है कि या तो वह मेंटली अनस्टेबल है या कुछ ज़्यादा ही चालक है, अपने असली चेहरे को आपके सामने आने नहीं देना चाहता.

चौथा संकेत: वह कहता है, क्या मैंने यह किया है?
वह बहुत ही कूल है. किसी बात पर चिल्लाकर बात नहीं करता. पर वह बहुत शांति से उन सभी बिगड़ी बातों के लिए आपको ज़िम्मेदार बना देता है, जो आपने की ही नहीं हैं. वह बड़ी सफ़ाई से अपनी ग़लती का दोष आपके ऊपर ट्रान्स्फ़र कर देता है. अगर ऐसा नहीं भी करता तो वह इस नाटकीयता के साथ बिगड़ी बात की ज़िम्मेदारी लेता है कि आपको आत्मग्लानि होने लगती है. और आप कह देती हैं,‘नहीं इसमें तुम्हारी कोई ग़लती नहीं है.’ उस समय भले आप माहौल के मुताब़िक ढल जाएं, पर कुछ समय बाद सोचती हैं,‘क्या वाक़ई मेरी ग़लती थी?’ हम तो कहेंगे बिल्कुल भी नहीं. आप इमोशनल मैन्युप्युलेशन का शिकार हो गई हैं.

पांचवां संकेत: वह आपके हर फ़ैसले पर सवाल उठाता है
जब हम कोई बड़ा फ़ैसला लेते हैं तब एक तरह से हम अंदर ही अंदर सोच रहे होते हैं, कहीं मैं ग़लत तो नहीं. ऐसे में सही मायने में सपोर्ट करनेवाला पार्टनर आपको सकारात्मक बातों के माध्यम से अश्योर करता है कि आप सही हैं. पर ख़ुद से ही प्यार करनेवाला व्यक्ति कभी नहीं चाहेगा कि उसके इनपुट्स के बिना आप कोई काम करें. या किसी काम का श्रेय आपको ही मिले. वह अपनी टांग घुसाएगा और आपके सही फ़ैसले में भी मीन-मेख निकालने लग जाएगा. वह इतनी नकारात्मक तस्वीर खींचेगा कि आपका आत्मविश्वास डगमगा जाएगा.