आखिर सुहागरात को क्‍यों दिया जाता है दूल्‍हा- दुल्‍हन को दूध का गिलास, जानिए वजह
December 1st, 2020 | Post by :- | 228 Views

अक्सर आयुर्वेद में आम जीवन से जुड़ी कई समस्‍याओं का निदान बताया गया है। वैवाहिक जीवन के भी समाधान इसमें छिपे हैं। शादी दो दिलों का ही नहीं बल्कि दो जिस्मों का भी मिलन होता है। इस अहसास को लेकर हर किसी के मन में अलग-अलग ख्याल आते हैं। आयुर्वेद में दूध पीने के भी कई फायदे बताए गए हैं। खासतौर से विवाहित जोड़ों के लिए रात में दूध पीना बहुत महत्‍वपूर्ण बताया गया है। अकसर आपने भी सुना होगा कि शादी वाली रात दूल्‍हा- दुल्‍हन को दूध का गिलास पीने के लिए दिया जाता है। क्‍या आप जानते हैं कि क्‍या है इसके पीछे की वजह।

आपको बता दें कि शादी की पहली रात जितनी खास होती है, उसमें दूल्हे को पिलाया जाने वाला दूध भी उतना ही खास होता है। सुहागरात के दिन दुल्हन का दूल्हे के लिए गरमागरम दूध का ग्लास लाना इस रस्म की प्रतिष्ठा में चार चांद लगा दिए हैं।  दूध को संपूर्ण आहार माना गया है। खासतौर से उन लोगों के लिए जो किसी भी तरह की शारीरिक कमजोरी से जूझ रहे हैं। दूध का उपयोग सेक्‍स पावर में बढ़ाने में भी किया गया है। शादीशुदा पुरुष अगर कमजोर महसूस करते हैं या जो कपल शादी के बाद ठीक से संबंध नहीं बना पा रहे हैं, उनके लिए काली मिर्च वाला दूध कारगर बताया जाता है। काली मिर्च वाला दूध शरीर में चुस्‍ती-फुर्ती लाने के साथ ही इंफेक्‍शन आदि से भी बचाकर रखता है। इससे प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है।

सुहागरात पर दुल्हेे को दूध पिलाने की परंपरा सदियों से चली आ रही है। यह सुहागरात का एक अहम हिस्साू बन चुका है। एक गिलास दूध को हल्‍की आंच पर गर्म करें और इसमें पहले से पिसी चौथाई चम्‍मच काली मिर्च डाल दें। अगर आपको इसका स्‍वाद ज्‍यादा तीखा लगता है तो काली मिर्च की मात्रा को घटाया जा सकता है। इसके अलावा  कुछ बादाम भी इस दूध में मिलाए जा सकते हैं। बादाम मिलाने के लिए हल्‍के गर्म पानी में इनको भिगोएं और फिर छिलका उतार कर दूध में मिला लें।

हल्‍का गर्म दूध रात के समय पीने से दिन भर की थकान और तनाव दूर हो जाता है। वहीं काली मिर्च को इसके अरोमा की वजह से सेक्‍स पावर बूस्‍ट करने वाला माना जाता है। बादाम भी शरीर में रक्‍त संचार बढ़ाने वाले बताए जाते हैं। तो अब आप समझें कि शादी वाली रात क्‍यों दिया जाता है दूल्‍हा और दुल्‍हन को दूध का गिलास।