फ़्लर्टिंग के अनूठे रूल्स
December 11th, 2020 | Post by :- | 163 Views

हर बार जब भी आप उनसे मिलती हैं, आपके पेट में तितलियां उड़ने लगती हैं, दिल ज़ोरों से धड़कने लगता है और हथेलियां पसीने से तर हो जाती हैं. दुख की बात यह है कि इनमें से कोई भी चीज़ आपके दिल की बात को बयां नहीं करती. चीज़ें और भी मुश्क़िल हो जाती हैं, यदि आप शर्मीली, संकोची स्वभाव की हों, जिन्हें अपनी भावनाएं अभिव्यक्त करना मुश्क़िल लगता हो. लेकिन यदि बिना कुछ कहे, केवल कुछ इशारों से बात बन जाए तो कैसा रहेगा?

हम इंसान बिना शब्दों के संवाद कर लेते हैं. यह बात रोमैंस के मामले में और भी सच्ची साबित होती है. जेफ़री हॉल, असोसिएट प्रोफ़ेसर ऑफ़ कम्यूनिकेशन स्टडीज़, यूनिवर्सिटी ऑफ़ कैन्ज़स के एक शोध के मुताबिक़,“एक अहम् बात ध्यान में रखनी चाहिए कि फ़्लर्टिंग हमारी दूसरे व्यक्ति के प्रति भावनाओं का ही नतीजा है-जिसे आप आसानी से नहीं रोक सकते. जब आप किसी को पसंद करते हैं और उसके साथ बातचीत करते हैं तो मौखिक या सांकेतिक रूप से आपके व्यवहार में उनके प्रति आकर्षण दिखाई देने लगता है.” यदि आपके दिल में सचमुच कोई भावना पनप रही हो या फिर केवल मस्ती-मज़ाक के लिए आप आगे बढ़ना चाहती हों तो केवल एक शर्मीली मुस्कान, एक नज़र या स्पर्श से आप उन्हें अपनी भावनाओं का एहसास करा सकती हैं.

हालांकि, इसमें भी गड़बड़ होने की संभावना है. कई बार ऐसा भी हो सकता है कि सामनेवाला आपके संकेतों को समझ ही न पाए. जेफ़री, जो द फ़ाइव फ़्लर्टिंग स्टाइल्सः यूज़ द साइंस ऑफ़ फ़्लर्टिंग टू अट्रैक्ट द लव यू रियली वॉन्ट के लेखक हैं, का कहना है,“सामनेवाले की फ़्लर्टिंग को समझने में हम बहुत कच्चे होते हैं. इसकी वजह यह है कि हर इंसान अपनी भावनाओं को अलग-अलग तरीक़े से अभिव्यक्त करता है.”

ख्याति गुप्ता बब्बर, बिहै‌व्यिरल रिसर्चर, बॉडी लैंग्वेज ट्रेनर और दिल्ली के संतुलन बिहैव्यिरल साइंसेस की संस्थापक, कहती हैं,“आपका लक्ष्य उन्हें यह जताना होना चाहिए कि आप भी उनमें रुचि रखती हैं और रिश्ते को आगे ले जाने के लिए तैयार हैं. ज़्यादातर महिलाएं अपने नॉन-वर्बल कम्यूनिकेशन से यह एहसास ही नहीं करा पातीं कि वे अप्रोचेबल हैं.” इसीलिए हम यहां एक्स्पर्ट्स से बात कर रहे हैं, जो आपको अपनी भावनाओं को प्रभावी ढंग से अभिव्यक्त करने के तरीक़े बताएंगे.

आगे की ओर झुकें
सामनेवाले को बिना असहज महसूस कराए, यह उसके क़रीब जाने का एक तरीक़ा है. “जब वे बात कर रहे हों तो आप उनकी ओर झुककर अपनी उत्सुकता अभिव्यक्त कर सकती हैं. यह उन्हें संकेत देगा कि आप उनमें रुचि रखती हैं,” सलाह देती हैं ख्याति. लेकिन वे सतर्क करते हुए कहती हैं कि जब वे आपसे बात करते हुए पीछे की ओर जाएं तो आपको उनकी इस दूरी का सम्मान करना चाहिए.

प्यार से निहारना
भावनात्मक संबंध स्थापित करने के लिए आइ कॉन्टैक्ट बहुत अहम् है. ख्याति के अनुसार,“यदि आपको रोमैंटिक रुचि दिखानी हो तो आप आइ-आइ-चेस्ट के तिकोने में निहार सकती हैं. यानी पहले उनकी आंखों में देखें और फिर नीचे गर्दन की ओर. यदि आपकी उनमें रुचि होगी तो यह अपने आप भी हो सकता है.”

ब्लॉकिंग से बचें
जब आप किसी के प्रति आकर्षित महसूस करते हैं तो आप नहीं चाहते कि आप दोनों के बीच कोई और आए. उदाहरण के लिए रेस्तरां में टेबल पर आपने अपनी कुहनियां रखीं हों और हाथों को बांध रखा हो, तो यह व्यवहार ब्लॉकिंग बिहैवियर में आता है. अपनी बांहों को खुला रखें और कंधों को ढीला छोड़ दें, यह दिखाता है कि आप उनके साथ रिलैक्स्ड महसूस कर रही हैं.

सामने से बात करें
अपने शरीर के सामने यानी आंख, मुंह, गले और ब्रेस्ट्स वाले हिस्से को उनकी ओर कर बात करें. इससे उन्हें संकेत मिलेगा कि आप उनमें रुचि रखती हैं. “जब आप उनसे बात कर रही हों, तो चेहरा, हाथ-पैर सबकुछ ठीक उनके सामने रखें. यह उन्हें महसूस कराता है कि आपका पूरा ध्यान उन पर ही है,” कहती हैं ख्याति.

मुस्कुराएं
उपसाला यूनिवर्सिटी, स्वीडन के शोधकर्ताओं ने पाया कि जब कोई हमें देखकर मुस्कुराता है, तो यह हमारे दिमाग़ के मिरर न्यूरॉन्स को प्रोत्साहित करता है और हम भी उनकी ओर मुस्कुरा देते हैं. डॉ भावना बर्मी, सीनियर कंसल्टेंट साइकोलॉजिस्ट, फ़ोर्टिस एस्कॉर्ट्स हार्ट इंस्टिट्यूट, दिल्ली कहती हैं,“‌मुस्कुराते वक़्त आपकी आंखें जितनी ज़्यादा सिकुड़ेंगी, आपके लगाव का एहसास उन तक उतना ज़्यादा पहुंचेगा.”

दूरी को पाटें
आप प्रॉक्सिमिक्स के प्रिंसिपल्स का इस्तेमाल कर सकती हैं. यह एक तरह का अध्ययन है, जो बताता है कि किस तरह इंसान आपसी दूरी का इस्तेमाल कर अपनी रुचि अभिव्यक्त करते हैं. ख्याति कहती हैं,“आमतौर पर जब हम किसी के भी पर्सनल या सोशल ज़ोन में आते हैं, बातचीत के दौरान उस व्यक्ति से हमारी दूरी 1.5 से 7 फ़िट तक होती है. लेकिन यदि आप उन्हें यह संकेत देना चाहती हैं कि उनमें आपकी विशेष रुचि है तो आप इस दूरी को और कम करने का प्रयास करें. दरअस्ल, जब हम किसी के इंटिमेट ज़ोन में होते हैं, तो हमारे चेहरों के बीच की दूरी लगभग 18 इंच होती है.”

हल्के से छुएं
स्पर्श से आपके भीतर ऑक्सिटोसिन नामक केमिकल रिलीज़ होता है, जो कि बॉन्डिंग को प्रोत्साहित करता है. अपनी रुचि दिखाने के लिए बात करते हुए हल्के से उनके हा‌थों को थपथपाएं या छुएं. “आप बांहों की ओर जितना ज़्यादा ऊपर की ओर जाएंगी, आपका स्पर्श उतना ज़्यादा अंतरंग होगा,” कहती हैं डॉ बर्मी.

सही और सच्चे ढंग से नकल करना
मिररिंग एक सोशल प्रक्रिया है, जहां लोग एक-दूसरे के पॉश्चर, हाव-भाव और शब्दों की नकल करते हैं. अक्सर यह अनजाने में किया गया व्यवहार है. जब आप अपने पार्टनर की गतिविधियों को दोहराते हैं तो इसका मतलब होता है कि आप उनके साथ एक लय में हैं. “मिररिंग दोनों के बीच कम्फ़र्ट, खुलापन, भरोसा और तालमेल बिठाने का तरीक़ा है,” कहती हैं डॉ बर्मी.

उनको जानें
अब आपने प्यार के सारे इशारे सीख लिए हैं, लेकिन क्या वे भी आपको पसंद करते हैं? ख्याति हमें सामनेवाले की बॉडी लैंग्वेज यानी हाव भाव को समझने का तरीक़ा बता रही हैं.

अल्फ़ा क्रॉस
यदि वे पैर क्रॉस कर आपके सामने बैठते हैं, जिससे उनका ग्रॉइन (पेट और जांघ के बीचवाला हिस्सा) आपको दिखता है, तो यह इशारा है कि वे भी आपमें रुचि ले रहे हैं. यह पौरुष दिखाने का हल्का-फुल्का अंदाज़ है.

फैलकर बैठना
पुरुष, जब किसी के प्रति आकर्षित होते हैं तो अधिकार जताने लगते हैं. यदि आप पुरुष को दूसरी कुर्सी पर बांहें फैलाते हुए या अल्फ़ा क्रॉस करते हुए देखें तो समझ जाएं कि वे अधिकार जता रहे हैं.

ख़ुद को संवारना
पुरुष ख़ुद को संवारने लगते हैं, उदाहरण के लिए उस महिला के सामने आते ही अपनी टाइ एडजस्ट करना और बाल बनाना.

हल्का-फुल्का स्पर्श
सौम्य स्पर्श पर नज़रें गड़ाए रखें, वे हल्के हाथों से आपकी बांहों या पीठ के निचले हिस्से को छुएंगे. यह आपके प्रति उनका लगाव अभिव्यक्त करता है और बताता है कि वे आपके साथ कम्फ़र्टेबल हैं.