सेक्स और शराब का रिश्ता इतना कॉम्प्लिकेटेड क्यों है?
August 22nd, 2020 | Post by :- | 239 Views

हमारे देश में सेक्स सबसे वर्जित विषय है. हम सार्वजनिक जीवन में इसके बारे में बात करने से अक्सर बचते हैं. सेक्स के बाद शराब दूसरा सबसे वर्जित विषय है. शराब को बहुत बुरा माना जाता है. हम तो यहां सेक्स और शराब पर एक साथ बात करने जा रहे हैं. शराब के बाद सेक्स का अनुभव कैसा होता है इसपर अलग-अलग लोगों की अलग-अलग राय है. जहां कुछ लोग शराब को मूड में आने का ज़रिया मानते हैं, वहीं अधिकतर लोग दोनों को मिक्स करने को ही बुरा मानते हैं. गूगल पर आप सेक्स और अल्कोहल टाइप करेंगे तो गूगल बताएगा कि लोगों ने यह भी सर्च किया,‘क्या अल्कोहल से सेक्स ड्राइव बढ़ता है? कौन-सा अल्कोहल सेक्स के लिए अच्छा है? क्या अल्कोहल पीने के बाद पुरुष बिस्तर में लंबे समय तक परफ़ॉर्म करते हैं? क्या महिलाएं शराब पीने के बाद सेक्स का लंबे समय तक सेक्स का आनंद उठाती हैं?’ हम गूगल पर पूछे जानेवाले हर सवाल का जवाब तो नहीं दे सकते, पर आज हमने यह पता लगाने की कोशिश की आख़िर इन दो सबसे वर्जित विषयों यानी सेक्स और शराब को साथ मिलाने से क्या हो सकता है? महिलाओं और पुरुषों की सेक्स लाइफ़ पर शराब का क्या असर होता है?

शराब और महिलाओं का सेक्स अनुभव
शराब और सेक्स के रिश्ते पर अगर किसी ने सबसे पहले कुछ लिखा था तो वे थे विलयम शेक्सपियर. उन्होंने अपने नाटक मैकबेथ में शराब के बारे में लिखा था,‘यह आपकी इच्छाओं को तो जगाती है, पर परफ़ॉर्मेंस के मोर्चे पर फ़ेल कर देती है.’ हालांकि बाद के दिनों में हुए कई शोधों में यह पाया गया कि संयमित मात्रा में शराब का सेवन करने से मूड हल्का हो जाता है. यह महिला पुरुष दोनों के मामले में सही माना जाता है. इसका नशा सेक्स के लिए मूड सेट करता है, पर ज़रा भी ओवर हुआ तो सब गुड़गोबर! शराब का असर जबतक दिमाग़ पर हल्का- हल्का रहे तब तक ठीक है, पर नशा शरीर को जब गिरफ़्त में लेता है तो महिलाएं सेक्स को एन्जॉय नहीं कर पाती हैं. सेक्स की उत्तेजना को महसूस करने के लिए हमें अपने शरीर के बारे में जानना, उसे छुए जाने, उसे प्यार किए जाने को महसूस करना होता है. शराब जब दिमाग़ पर पूरी तरह हावी हो जाती है, तब हम अपने शरीर को फ़ील नहीं कर पाते. यानी दूसरे शब्दों में कहें तो सेक्स के सेंसेशन को महसूस नहीं कर पाते. ज़रूरत से अधिक शराब पीकर सेक्स करने के दौरान महिलाएं क्लाइमैक्स फ़ील नहीं कर पातीं. वे पूरी तरह उत्तेजित भी नहीं होतीं इसलिए संतुष्टि का अनुभव भी नहीं कर पातीं. महिलाओं के पूरी तरह से उत्तेजित महसूस न करने का वैज्ञानिक कारण यह है कि अल्कोहल के चलते वेजाइना के आसपास ब्लड का सर्कुलेशन उतनी तीव्रता से नहीं हो पाता, जितना होश में किए जानेवाले सेक्स के दौरान होता है. वेजाइना में पर्याप्त लूब्रिकेशन की भी कमी हो सकती है, जिससे सेक्स एक पेनफ़ुल अनुभव बन सकता है.

शराब और पुरुषों का सेक्स अनुभव
जैसा कि हम पहले ही कह चुके हैं एक लिमिट में शराब पीने से सेक्स की इच्छा बढ़ती है. यह महिलाओं के साथ-साथ पुरुषों पर भी लागू होता है. जब शराब का नशा सेक्स के नशे पर भारी पड़ने लगता है तब कई पुरुष उत्तेजना में कमी का अनुभव करने लगते हैं. ऐसा इसलिए होता है क्योंकि अल्कोहल में कई ऐसे तत्व होते हैं, जो हमारे शरीर को रिलैक्स कर देते हैं. शरीर रिलैक्स होते ही ब्लड फ़्लो स्लो हो जाता है. पीनस के आसपास के क्षेत्र में रक्तसंचार धीमा होते ही पुरुष उत्तेजना में कमी अनुभव करते हैं. चाहकर भी वे उत्तेजित नहीं हो पाते. क्रोनिक इरेक्टाइल डिस्फ़ंक्शन के अहम् कारणों में एक है शराब का नियमित और अधिक मात्रा में सेवन.
अगर शराब के नशे में धुत होने के बाद इरेक्शन की समस्या नहीं भी होती तो अक्सर पुरुषों को इजैकुलेशन में परेशानी का सामना करना पड़ता है, क्योंकि नशे में उत्तेजना को देरी तक बनाए रखना संभव नहीं होता. जब उत्तेजना देरी तक नहीं बनी रहेगी तो ज़ाहिर है इजैकुलेशन में समस्या होगी ही. इस तरह नशे में सेक्स के बाद ज़्यादातर पुरुष संतुष्टि का अनुभव नहीं करते, क्योंकि पुरुषों में इजैकुलेशन यानी वीर्य पतन और संतुष्टि का गहरा नाता है.

दूसरे ख़तरे, जो नशे में किए जाने वाले सेक्स से जुड़े हैं
चूंकि सेक्स का ओवरडोज़ हमारे सोचने-समझने की क्षमता को प्रभावित करता है ऐसे में यह वाक़ई काफ़ी ख़तरनाक हो जाता है. सबसे पहले तो नशे में अनसेफ़ सेक्स की संभावना बढ़ जाती है. जिसके चलते एसटीडी के संपर्क में आने का डर बढ़ जाता है. पुरुष हों या महिलाएं अक्सर नशे में सेक्स से जुड़े रिस्क ले लेते हैं. जैसे अनजान व्यक्ति के साथ हमबिस्तर होने का फ़ैसला या बिना किसी प्रोटेक्शन के सेक्स. जहां इससे पुरुषों के एसटीडी का ही ख़तरा होता है वहीं महिलाओं को अनवॉन्टेड प्रेग्नेंसी का रिस्क भी होता है. यानी कुल मिलाकर हम कह सकते हैं शराब के नशे में सेक्स करना ख़तरे से ख़ाली नहीं है. ख़ासकर जब आप अपने घर के सुरक्षित माहौल में न हों. अनजाने लोगों के साथ आउटिंग पर गए हों या किसी पार्टी में हों. सेक्स तो अपने आप में एक नशा है, इसका आनंद पूरे होशोहवाश में उठाएं.