रिवर्स हेयर वॉश की वो बातें, जो आपको जाननी चाहिए …
August 24th, 2020 | Post by :- | 250 Views

शैम्पू, लैदर (बालों में झाग लाना), कंडीशनिंग और उसके बाद बालों को धो देना-हमारी और आपकी बाल धोने वाली रूल बुक में अब तक लगभग यही बातें शामिल थीं और हम जितना दूर तक सोच सकते हैं उतनी दूर तक, आदर्श रूप से शैम्पू करने की यही परंपरा चली रही है. नि:संदेह रूप से यह हममें से अधिकांश लोगों के फ़ायदेमंद साबित भी होती है.

हालांकि हम वर्षों से इस बंधी-बंधाई परंपरा को निभाए जा रहे हैं, जिसकी वजह से हमारे बाल चमकहीन, बेजान और लाइफ़लेस हो चुके हैं या फिर हम इस तरह की समस्या से जूझ रहे हैं. आपको यह भी लगता होगा कि बाल धोने के सारे नियमों का बहुत ही बारीक़ी से फ़ॉलो करने के बाद भी मेरे बाल चमकहीन और बेजान बने हुए हैं, तो आपको ये बातें जानने की ज़रूरत है.

रिवर्स हेयर वॉश

ऊपर दी गई समस्याओं से निपटने के लिए आपको रिवर्स हेयर वॉश आज़माना चाहिए. रिवर्स हेयर वॉश से मतलब है कि, पहले कंडीशनर उसके बाद शैम्पू. यह बहुत ही सरल है; आपको बस रिवर्स हेयर वॉशिंग के प्रॉसेस को अपनाना होगा. सबसे पहले अपने बालों में कंडीशनर लगाएं और उसके बाद इसे अच्छी तरह से धोकर शैम्पू से बालों को साफ़ करें. इस प्रक्रिया में स्कैल्प में कंडीशनर का अवशेष बाद के शैम्पू का इस्तेमाल करने से साफ़ हो जाता है, जिसकी वजह से बाल इन अवशेषों के नीचे दबते नहीं हैं. यह टिप और ट्रिक उनके लिए बालों के लिए जीवनदान साबित होगी, जिनका स्कैल्प ऑयली होता है या फिर बेजान बालों से परेशान होते हैं

रिवर्स हेयर वॉशिंग के फ़ायदे

इस प्रक्रिया स्कैल्प को साफ़ करने से पहले हेयर फ़ॉलिक्स को रिपेयर करने में मदद करती है, जिससे बाल हेल्दी और हाइड्रेटेड दिखाई देते हैं. विशेषज्ञों का मानना है कि रिवर्स हेयर वॉशिंग से डल और फ़्लैट हेयर्स में एक स्ट्रक्चर जोड़ा जा सकता है.

हालांकि, अगर आप इस प्रक्रिया की वजह से ड्राय और रफ़ एंड्स (नीचे के बालों) से डरती हैं, जो सप्ताह में सिर्फ़ एक बार ही रिवर्स हेयर वॉश अपनाएं. इसके अलावा ड्राय एंड्स से छुटकारा पाने के लिए प्रचुर मात्रा में कंडीशनर का इस्तेमाल करें, लेकिन उसे धोएं नहीं बल्कि थोड़े से पानी का छींटा कर दें और उसके बाद शैम्पू करें.

किसे आज़माना चाहिए?

उन सभी लोगों को इस रिवर्स हेयर वॉश तकनीक़ी को आज़माना चाहिए, जो रूखे और बेजान बालों से परेशान हैं. यह उनके लिए विशेष रूप से उपयोगी है, जिनके पास फ़ाइन हेयर या फिर ऑयली स्कैल्प है. यह बालों पर दबाव डाले बिना कंडीशनिंग में मदद करते हैं.

यहां तक कि अगर आपके बाल मोटे और ड्राय है, तब भी यह तकनीक हेयर लॉक्स को टेक्स्चर देने में मदद करती है. जो लोग कंडीशनर लगाने से परहेज़ करते हैं, लेकिन ड्राय एंड्स से परेशान हैं, उनके लिए भी यह तकनीक वरदान साबित हो सकती है.