फ़ायनांस से जुड़े सवाल, जो शादी से पहले ज़रूर पूछने चाहिए ….
September 1st, 2020 | Post by :- | 37 Views

शादी से पहले सभी अच्छी-अच्छी बातें की जाती हैं, जैसे-कितने बच्चे होंगे? हमें हनीमून कहां मनाना चाहिए? कुत्ता या बिल्ली? पर सबसे ज़रूरी सवाल तो ये है कि आपका क्रेडिट स्कोर क्या है? हालांकि निसंदेह यह भावनात्मक सवाल नहीं है, लेकिन ये भी सच है कि अंतत: यही बात आपके विवाह को सबसे ज़्यादा प्रभावित करती है. आगे चलकर उनका ख़राब क्रेडिट स्कोर आपके रिश्ते में दरार पैदा न करे इस‌लिए अपनी शादी से पहले कुछ इस तरह के सवाल पूछें.

आपका क्रेडिट स्कोर क्या है?
क्रेडिट स्कोर सभी कुछ प्रभावित करता है-लाइन ऑफ़ क्रेडिट खोलने की क्षमता से लेकर आपके लोन के ब्याज तक. यदि उनका क्रेडिट ख़राब है, उनसे इसका कारण पूछें. आपके भावी पार्टनर के क्रेडिट स्कोर से आपको उनके ख़र्च करने की आदतों और पैटर्न के बारे में काफ़ी कुछ मालूम पड़ता है, जैसे-वे अपने फ़ायनांस का रखरखाव कैसे करते हैं. इससे उनके दृष्टिकोण के साथ ही आय, ख़र्च और क़र्ज को नियंत्रित करने की उनकी क्षमता के बारे में भी पता चलता है.

क्या आपके ऊपर कोई क़र्ज है?
देखिए क्या यहां दोधारी तलवार तो नहीं है, ख़राब क्रेडिट और ढेर सारा क़र्ज. उनके पुराने लोन्स (कर्ज़) के बारे में पता करें. उनकी आय पर निर्भर लोगों की संख्या और इस निर्भरता की वजह, जैसे-पढ़ाई, शादी आदि की भी जानकारी लें. पूछें कि क्या आपको इस क़र्ज को चुकाने की ज़िम्मेदारी में शामिल होना पड़ेगा या फिर इस बारे में आपको चिंता करने की कोई ज़रूरत नहीं होगी.

क्या हमारी पैसों से जुड़ी योजनाएं एक जैसी हैं?
हो सकता है कि आपको भावी जीवनसाथी के बारे में ये बात पहले से ही मालूम हो, लेकिन इस बात को स्पष्ट रूप से पूछने का यह सही समय होगा. यदि आप दोनों पैसे बचानेवाले कपल हैं तो ये अच्छा है और यदि आप दोनों ख़र्च करनेवाले कपल हैं तो भी आपमें एका बना रहेगा. लेकिन समस्या तब होती है, जब आपमें से एक बचत करनेवाला और दूसरा ख़र्च करनेवाला हो.
क्या उनका बजट तैयार करने का तरीक़ा आपके तरीक़े जैसा है? क्योंकि इसमें काफ़ी अंतर होगा तो समस्याएं खड़ी हो सकती हैं. ऐसे सवाल पूछें,‘हम लोग बिल्स का भुगतान कैसे करेंगे? हम लोग अपने आर्थिक सुरक्षा कैसे करेंगे?’

हम दोनों हमपर निर्भर लोगों का ख़्याल कैसे रखेंगे?
यह सिर्फ़ आप और आपके साथी की ही बात नहीं है. एक दिन बच्चे भी होंगे. फिर कुछ सालों बाद आप पर अपने मां-बाप की देखभाल की ज़िम्मेदारी भी होगी. दोनों पार्टनर्स को एक-दूसरे के परिवार के प्रति उनकी ज़िम्मेदारियों के बारे में मालूम होना चाहिए, ख़ासकर तब, जबकि उनपर निर्भर रहनेवाले माता-पिता हैं.
शादी के बाद हर माह आपको परिजनों के लिए कितनी राशि की ज़रूरत होगी, ये बात आपको शादी से पहले ही स्पष्ट रूप से मालूम होनी चाहिए. ज़ाहिर है इस बात को लेकर बाद में कोई झगड़ा नहीं होना चाहिए.