फर्टिलिटी के इलाज के लिए कैसे फायदेमंद है एक्यूपंचर
September 2nd, 2020 | Post by :- | 51 Views

फर्टिलिटी के उपचार के लिए कई सालों से एक्यूपंचर का इस्तेमाल किया जाता है। जिन लोगों को फर्टिलिटी के दवाइयों के इलाज से फायदा नहीं मिलता है वह एक्यूपंचर का सहारा लेते हैं। एक्यूपंचर गर्भधारण करने में मदद करता है। अगर इलाज के साथ एक्यूपंचर भी किया जाए तो गर्भधारण करने की संभावना बढ़ जाती है। फर्टिलिटी की समस्या से निजात पाने के लिए बहुत से डॉक्टर और दवाइयों का सहारा लिया जा सकता है लेकिन इसके साथ-साथ कुछ बातों का भी ध्यान रखा जाना जरुरी होता है। तो आइए आपको बताते हैं कैसे एक्यूपंचर फर्टिलिटी के इलाज के लिए फायदेमंद है।

क्या हैं एक्यूपंचर: एक्यूपंचर एक चीनी पद्यति है जिसमें शरीर की ऊर्जा को संतुलित करके समस्या का इलाज किया जाता है। इसमें शरीर में पतली सुईयां चुबाई जाती हैं। जो हार्मोन लेवल और इम्यून सिस्टम को ठीक करने में मदद करते हैं।

एक्यूपंचर से होने वाले फायदे:

मासिक धर्म संबंधी विकारों का इलाज करता है: एक्यूपंचर मासिक धर्म से संबंधित समस्याओं को ठीक करने में मदद करता है। जिससे फर्टिलिटी की समस्या दूर होकर गर्भधारण करने में आसानी होती है।

आईवीएफ प्रक्रियाओं के बाद गर्भाशय के संकुचन का खतरा कम करता है: एक्यूपंचर गर्भाशय को आराम पहुंचाने में प्रभावित करता है। यह गर्भाशय के संकुचन को कम करने और निषेचित अंडे के निष्कासन के खतरे को कम करने में मदद करता है। एक्यूपंचर महिलाओं में प्रेग्नेंसी के रेट को बढ़ा देता है।

गर्भाशय की अस्तर की गुणवत्ता को बढ़ाता है: गर्भाशय की अस्तर को स्वस्थ रहना जरुरी होता है। यह एक भ्रूण के आरोपण और एक स्वस्थ बच्चे की वृद्धि के लिए आवश्यक है। एक्यूपंक्चर गर्भाशय में स्वस्थ रक्त के प्रवाह को बढ़ाने में मदद कर सकता है।

कैसे उपचार करें: एक्सपर्ट के मुताबिक यदि आप इनफर्टिलिटी के लिए एक्यूपंक्चर से इलाज करने की सोच रहे हैं तो (आईवीएफ) में गर्भधारण से तीन से चार महीने पहले शुरू किया जाना चाहिए। अगर गर्भपात से बचने के लिए एक्यूपंचर कर रहे हैं तो यह प्रेग्नेंसी के पहले से तीसरे महीने के बीच होना चाहिए।