लंबी डेट के बाद क्या आप शादी के लिए पूरी तरह तैयार हैं? #loveromance
May 3rd, 2022 | Post by :- | 40 Views

यदि आप किसी को डेट कर रही हैं तो आप इस सवाल का क्या जवाब देंगी-क्या आप शादी के लिए तैयार हैं? क्या वाक़ई शादी के लिए तैयार होने का कोई समय होता है? क्या कुछ सवाल होते हैं, जिनके जवाब बता सकें कि अब आप शादी करने के लिए तैयार हैं? इस बारे में हमने तीन लोगों से बातचीत की और हमें उम्मीद है कि उनकी दलीलें आपको किसी न किसी नतीजे पर ज़रूर पहुंचा देंगी.

‘जब ये सही महसूस हो’
तहज़ीब डॉक्टर सिंह, 31, होममेकर
‘‘युवा होते समय हम सभी कल्पना करते हैं कि हम एक ऐसी डेट पर जाएंगे, जिसका अंत प्यार भरे चुंबन से होगा. तब कहां पता होता है कि डेट की प्रक्रिया में इसके अलावा भी कई चीज़ें आती हैं? विवाह कब करना है ये बात आप किसी व्यक्ति के साथ डेट करने के दौरान दिन, महीने या साल गिनकर नहीं बता सकते. यदि आप भाग्यशाली हैं तो आप मिलते हैं, एक-दूसरे को पसंद करते हैं और शादी कर लेते हैं, लेकिन रिश्ते निभाना आसान नहीं होता. आपको दूसरे व्यक्ति को दिखाना पड़ता है कि वास्तविकता क्या है. कई बार आपने लोगों को कहते सुना होगा कि रिश्तों में सही समय ज़्यादा मायने रखता है. मैं भी यही मानती हूं. करियर, आपके आसपास के लोग, आप कहां रह रहे हैं…ये सभी बाहरी घटक आपके निर्णय को प्रभावित करते हैं. पर सही समय वो है, जब आप उस व्यक्ति को प्यार करते हैं और अपने दिन-रात उसी के साथ गुज़ारना चाहते हैं.’’

‘जब सारे सवालों के जवाबों के आगे सही का निशान हो’
अनुराधा सोवानी, साइकोलॉजी विभाग प्रमुख, मुंबई यूनिवर्सिटी
‘‘लोग अक्सर प्रतिबद्घ रिश्ते में आने से हिचकिचाते हैं इसलिए डेटिंग की प्रक्रिया अक्सर लंबी खिंचती रहती है और विवाह की तारीख़ आगे खिसकती रहती है. इससे कई तरह की समस्याएं पैदा होने लगती हैं. मुझे लगता है कि सही निर्णय को तो आप प्रक्रिया के हो जाने के बाद ही समझ सकते हैं. जब आप वैवाहिक जीवन जीना शुरू कर देते हैं तभी आप समझ पाते हैं कि आपने सही निर्णय लिया था या नहीं. संदेह तो शादी हो जाने के बाद भी दिमाग़ में आते ही रहते हैं. अत: शादी का निर्णय लेने से पहले उन बातों की सूची बना लें, जिनपर आपका मत बिल्कुल स्पष्ट है, जैसे-रिश्तों में निष्ठा, फ़ायनांस, समय की वचनबद्घता, सेहत संबंधी आदतें आदि. शादी का निर्णय लेने से पहले इन सभी बातों पर अच्छी तरह चर्चा करके पूरी तरह आश्वस्त हो लें. एक बार इन बातों पर सहमति हो गई तो शादी का निर्णय आसानी से लिया जा सकता है.’’

‘जब एक-दूसरे को अच्छी तरह समझ लें’
अंजलि छाबरिया, साइकियाट्रिस्ट
‘‘शादी का निर्णय तभी लेना चाहिए जब आप दोनों इस पर चर्चा कर चुके हों और इस निर्णय से ख़ुश हों. जब आपको ये महसूस हो कि आप अब तक जिन भी लोगों से मिली हैं, उनमें से यही ऐसा इंसान है जिसके साथ आप जीवन बिताना चाहती हैं. जब आप अपने साथी को उसी रूप में सम्मान और प्यार देना चाहती हैं, जैसा कि वो है और उसके व्यक्तित्व में कोई बड़ा बदलाव लाने की अपेक्षा नहीं रखती हैं. जब आपको ये लगे कि आपको पता है कि आप उन्हें कैसे ख़ुश कर सकती हैं और उन्हें भी पता है कि वो आपको ख़ुशी कैसे दे सकते हैं. जब आप विवाह से जुड़े बड़े मुद्दों, जैसे-पैसे, सेक्स और बच्चे आदि पर एक-दूसरे के विचारों से सहमत हों. यदि ये सारी बातें ठीक हैं तो मान लीजिए कि आप वैवाहिक जीवन में आनेवाले भावनात्मक उतार-चढ़ावों से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार हैं.’’