प्यार. . . इसे शर्मिंदा होने से बचाएँ, तोड़े नहीं रिश्ते को मजबूत बनाएँ #loveromance
May 6th, 2022 | Post by :- | 41 Views

कुछ दिनों पूर्व पारिवारिक रिश्तों में घटी एक घटना ने प्रेम. . . प्यार. . . इश्क. . . मोहब्बत जैसे शब्दों से विश्वास ही खत्म कर दिया। बचपन से लेकर बुढ़ापे तक इस शब्द को सुनते, पढ़ते और सिनेमा में देखते हुए ऐसा लगता रहा जैसे इस शब्द के बिना जीना मुश्किल है। प्यार एक ऐसा अहसास है जिसे व्यक्ति दिल से जीता है। एक व्यक्ति के लिए ऐसा अदृश्य खिंचाव जिसे वह सिर्फ महसूस कर सकता है और कह सकता है कि उसे इश्क/मोहब्बत/प्रेम/प्यार हो गया है। इसमें कोई शिकायत या किसी प्रकार की माफी नहीं होती है। वर्तमान में इसका अभाव देखा जा रहा है। दो जाने-पहचाने और दो अनजान व्यक्ति जब जिन्दगी के सफर पर एक-साथ चलने का वादा करते हैं तो उनके परिजनों के लगता है कि इनके बीच प्रेम का मजबूत धागा है, जिसने उन्हें आपस में बांधा है। लेकिन जब इस प्रेम के बीच में गाली-गलौच, मारपीट, लड़ाई-झगड़े का आगमन होता है तो यह इश्क/मोहब्बत/प्रेम/प्यार शब्द अपने आप में शर्मिंदा हो जाता है। अक्सर देखा और कहा गया है कि जिस रिश्ते में प्रेम का अभाव हो जाए उसमें टूटन आ जाती है। यदि आपकी जिन्दगी में ऐसा कुछ हो रहा है तो रिश्ते को तोडऩे के बजाय उसे मजबूत बनाने का प्रयास करें। एक नई शुरूआत करते हुए अपने रिश्ते को बनाए रखें।

आज हम अपने खास खबर डॉट कॉम के पाठकों के लिए ऐसे रिश्तों को सुधारने के कुछ ऐसे उपाय बताने जा रहे हैं जिन्हें आजमाने के बाद न सिर्फ आपका रिश्ता मजबूत होगा अपितु जिस प्रेम/प्यार/मोहब्बत को आपने भुला दिया है उसका मीठा अहसास एक बार फिर से आपके दिलों में लहरों की तरह हिलोरे मारने लगेगा। आइए डालते हैं एक नजर उन आसान उपायों पर

सम्मान देना शुरू करें
कहते है जिस रिश्ते में एक दूसरे के लिए इज्जत नहीं होती वो रिश्ता -रिश्ता नहीं होता एक बोझ बन जाता है। अपने रिश्ते को बोझ न बनाएं अपितु इसमें सुधार करते हुए एक-दूसरे को सम्मान देना शुरू करें। अपने आप में थोड़ा झुकाव पैदा करें। बिगड़ते रिश्तों के बीच में अपने उन दिनों को याद करें जब आप एक-दूसरे के लिए चट्टान की तरह खड़े थे। इन दिनों की याद आते ही अपने आप में बदलाव महसूस करेंगे। घर में एक के पहल करने से घर का वातावरण भी धीरे धीरे बदलने लगता है ,तो ये तो सिर्फ रिश्ता है।

समय देना शुरू करें
जब तक आप एक दूसरे को समय नहीं देंगे, बातें नहीं करेंगे तब तक ऐसे रिश्तों का कोई भी समाधान नहीं हो सकता। बेहतर रहेगा कि रिश्ते को खत्म करने से अच्छा आप इसे सुधारें, एक-दूसरे को वक्त दें और एक नई शुरुआत की सोच पैदा करें। एक-दूसरे को समझें, छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा न करें, अगर आपका साथी किसी काम को करने में असमर्थ हो तो आप उसे पूरा करें और यही आपके लिए नई शुरुआत होगी।

खत्म करें ईगो
चाहे पति हो या पत्नी, अपने आपको ईगो का शिकार न होने दें। ईगो ऐसा वायरस है जो अच्छे अच्छों को भी खराब कर देता है और उनके रिश्तों को तहस-नहस कर देता है। अगर आपने इस ईगो को अपनी जिंदगी से उखाड़ दिया तो आपका रिश्ता सबसे अच्छा रिश्ता माना जाएगा, सारी चीजें अपने आप सामान्य हो जाएँगी और आपके बीच में प्यार और बढ़ जाएगा।

विश्वास पैदा करें
वैवाहिक रिश्ते में विश्वास का होना बहुत जरुरी है। विश्वास को रिश्ते की नींव माना जाता है, जिस पर रिश्ता टिका होता है। वो कहावत तो आपने सुनी होगी कि एक दूसरे पर शक करने से अच्छा विश्वास करके मर जाओ। शक नामक शब्द रिश्तों में आग लगा देता है, खुशियों को मार देता है। एक दूसरे पर रोकटोक करने कि बजाए एक दूसरे पर भरोसा करें जो आपके रिश्ते को और मजबूत बनाएगा।

शारीरिक सम्बन्ध
शारीरिक सम्बन्ध को अक्सर लोग मनोरंजन का जरिया मानते हैं, लेकिन बता दें शारीरिक सम्बन्ध आपस की तालमेल और प्यार को बढ़ाता है, जिससे आपके संबंध अच्छे होते हैं व एक दूसरे के लिए प्यार बढ़ता है।

अच्छा खाना खिलाना
बहुत पुरानी कहावत है पति का दिल जीतना है और उसे खुश रखना है तो सबसे पहले उसके पेट को खुश करो, उन्हें अच्छा खाना खिलाईये, अच्छा खाना खाते ही पति का सारा गुस्सा फुर्र हो जाएगा। अपने बिगड़े हुए रिश्ते को सही करने का सबसे अच्छा तरीका यही है।